मज़हबी मानव - Abhishek mishra

मज़हबी मानव     Abhishek mishra     कविताएँ     धार्मिक     2021-09-22 11:20:24     मज़हबी मानव, कविता     15845        
मज़हबी मानव

हे ! मज़हबी मानव तेरे कितने रूप और रंग 
हम समझ ना पाए तेरे जीवन जीने का ढंग ।
आतंक दंगे-फसाद धर्म की आड़ में आखिर अभी कितने,
न जाने इस आग की आंच में जलेंगे सपने कितने ।
पंथ, धर्म-कट्टरता व मज़हब की आड़ में हे ! मानव,
तू भला इतना संवेदनहीन कैसे हो सकता है दानव ।
तेरे हैं ये रूप अनेक,जिन्हें पहचान न सका कोई एक,
आखिर बता ? ?
मानवता को कब तक करेगा तू शर्मसार, 
ना जाने कितने मनुज काल के मुंह में जाएंगे बेशुमार अफगानी जग में फैला है कैसा मंजर
जो अपने -अपनों के ही पीठ में घोंप  रहे हैं खंजर..l

                                   -अभिषेक मिश्रा (इ.वि.वि)


Related Articles

INDIAN ARMY
INDIAN ARMY

जहाँ में आया था तो क्या पहचान थी मेरी, वतन से इश्क करते ही मैं हिंदुस्तान हो गया.......

ना समझा दर्द मेरा
ना समझा दर्द मेरा

किसी ने ना समझा दर्द मेरा, और चोट करके चला गया, समझा था हमको लोहा, हथौड़ा मारकर चला गया।

मामू मत बनाओ - मुन्तशिर होकर जुड़ा हूँ छूट टुकड़े कुछ गए
मामू मत बनाओ - मुन्तशिर होकर जुड़ा हूँ छूट टुकड़े कुछ गए

मुन्तशिर होकर जुड़ा हूँ छूट टुकड़े कुछ गए बस उन्हीं के बिन अधूरा ढूँढ़ लाओ दोस्तो।। ये मता'-ए-ग़म न जन्नत में नशीब हो पा


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group