हिन्दी दिवस - संदीप कुमार सिंह

हिन्दी दिवस     संदीप कुमार सिंह     कविताएँ     समाजिक     2021-09-22 09:59:40     हिन्दी दिवस की सभी पाठकों को हार्दिक शुभकामनाएं हो।     4406        
हिन्दी दिवस

हिन्दी हिन्द की लाज है,
अभिमान भी है हिन्दी।
सभ्यता की पहचान है हिन्दी,
विश्व के पटल का गौरव है हिन्दी।
जन_जन की पुकार है हिन्दी,
अब तो राष्ट्रभाषा हिन्दी ही स्वीकार हो।
हिन्दी के पुत्र दृढ़ प्रतीज्ञ हैं,
 हिन्दी ही हिन्द राष्ट्र का,
सुन्दर और सर्वोत्तम ज्ञान है।
जल्दी से जल्दी राष्ट्रभाषा हो हिन्दी,
हिन्द के जन_जन का आवाज है।
उत्साहित आज सारा हिन्द है,
हिन्दी की प्रकाश से प्रकाशित,
आज सारा विश्व है ।
स्वीकार इस अटल सत्य को,
हिन्दी ही राष्ट्रभाषा की श्रृंगार हो।

Related Articles

Good babu
Good babu

Achha babu pyara babu Good babu love babu Babu babu mere babu Ankho ka Tara Jan se pyara Dil ka dulara babu babu Sons babu janu babu mere ladla babu Ma ki janesme basti

ये मेरा हक है
ये मेरा हक है

बड़े प्यार से, मां के गोद में, बैठे बैठे पूछा गीले बिस्तर पर क्यों सोती मुझे सुलाती सूखा तीखा तीखा लात मरता तुझको लग

जूल्फ एक घटा
जूल्फ एक घटा

जूल्फ एक घटा है,यह प्यार की निशानी, कदमों के जब बजे पाजेब, दोनो की विशाल है यह दास्तान। बहुत नाजुक नूरे जवी पपिया, क


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group