हिंदी दिवस - सूर्यवंशी प्रदीप मौर्य

हिंदी दिवस     सूर्यवंशी प्रदीप मौर्य     कविताएँ     समाजिक     2021-09-26 14:20:19         8023        
हिंदी दिवस

हिंदी मेरी श्रेय है,
हम सबको बहुत प्रिय है,
हिन्दी मेरी जान है
हम सबका सम्मान है,
हिंदी सुखो का भण्डार है,
हम सबके जी का एक आधार है,
हिन्दी ही मेरी गीता है,
हम सबके गम को पीता है, 
हिंदी मेरी श्रेय है,
हम सबको बहुत प्रिय है.|

Related Articles

अंधकारदीप जलाते हों....?
अंधकारदीप जलाते हों....?

अंधकारदीप जलाते हों....? भगवान अंशुमाली आपनी आखरी साँस ले रहै थे। लगता था कि कुछ ही क्षणो में अपनी जीवनलीला समे

जिंदगी हम सबकी
जिंदगी हम सबकी

"तमन्ना" से घिरी हुई है "जिंदगी हम सबकी".. "भविष्य" की फिक्र से बंधी हुई है जिंदगी हम सबकी... यूं तो जिंदगी की क

मैं आत्मा
मैं आत्मा

जो कहता था, जन्मो जन्म का रिश्ता है तेरा मेरा साथ। मुझे मरे हुए एक साल ही बिता था, वह थाम लिया दूसरे का हाथ।।


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group