गुरु का स्थान सबसे ऊंचा - Chanchal chauhan

गुरु का स्थान सबसे ऊंचा     Chanchal chauhan     कविताएँ     समाजिक     2021-09-22 09:54:25     गुरुवर में संसार समाया     6311        
गुरु का स्थान सबसे ऊंचा

गुरुवर में संसार समाया,
जिसने संसार को महकाया, कालिक था ये जीवन अपने ज्ञान की ज्योति से इसको चमकाया,
गुरु में ज्ञान का सागर समाया,
गोविंद ने भी गुरु का दर्जा सबसे ऊंचा है बताया,
सच्चाई अच्छाई के मार्ग पर हमें चलाया,
मिट्टी से हमको सोना बनाया,
अपनी ज्ञान की मणि से,
हमारे जीवन में उजाला फैलाया,
आदरणीय, पूजनीय गुरुवार को,
शत शत नमन प्रणाम,
जिन्होंने हमारे जीवन को,
सफल बनाया,
   चंचल चौहान

Related Articles

किसको अपना दुश्मन कर लूँ किसको अपना यार करूँ
किसको अपना दुश्मन कर लूँ किसको अपना यार करूँ

किसको अपना दुश्मन कर लूँ किसको अपना यार करूँ समझ नहीं आता है मेरे किसको कितना प्यार करूँ।। फ़ोन करो तो वो कहते हैं

अल्फ़ाज़-ए-दिल
अल्फ़ाज़-ए-दिल

मैं किसी रोज़ हार जाता हूँ बैठ कर गीत गुनगुनाता हूँ।। कल मेरे पास उसका फ़ोन आया ये मैं बातें फ़क़त बनाता हूँ।। लोग कह

व्यापार
व्यापार

कहीं थम गई सांसे कहीं कोई बर्बाद हुआ कहीं जीवन पूरा ठहर गया कहीं कोई आबाद हुआ !! कहीं मांग का सिंदूर मिटा कहीं आँखो


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group