गुरु और शिष्य - Prerna sharma

गुरु और शिष्य     Prerna sharma     कविताएँ     समाजिक     2021-09-22 10:05:02     # गुरु और शिष्य     8599        
गुरु और शिष्य

 
जीवन की पहली मुलाकात है शिक्षक,  विद्यार्थियों की आस है अच्छे शिक्षक
 यूं ही नहीं कहा जाता इन्हे  गुरु,  हर मुकाबले से करवाते हैं ये   रूबरू
 हार जाने पर हमारा  हौसला बढ़ाते हैं,  सही गलत का फैसला करवाते हैं
 ज्ञान का है  इनमें भंडार, इसलिए नहीं करते हम इनका तिरस्कार
 परीक्षा में जब हम डर जाए,  अपनी मुस्कुराहट से हमें बचाए
 जब भी हम डगमगाए,  सीधा गुरु के द्वार पर जाएं
 उसी के पास है समाधान, इसीलिए करते हैं  इनका आदर सम्मान  ।

 लेखिका प्रेरणा शर्मा


Related Articles

मर्यादा
मर्यादा

नर नारी में भेद रहा है कि नर से भारी नारी मर्यादा में कौन बड़ा है? यह प्रश्न बड़ा है न्यारी दोष अहिल्या किय

Bewafa yaar
Bewafa yaar

Yun to han wo bhole bhale Pyara chehra Dil ke kale. Aankhon Se teer chalate Hain Kahate Hain ham bewafa Nahin hn. Aur. Humse jhoot bolkar yaar se milane jaate Hain. Aarti Singh

दुनिया के रंग
दुनिया के रंग

दुनिया के लोग जैसे दिखते हैं, वैसे होते नहीं, चेहरे पर नकाब लगाये रहते हैं, झूठी मुस्कान, पीछे से वार करने से चूकते


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group