कोरोना की विदाई - Vipin Bansal

कोरोना की विदाई     Vipin Bansal     कविताएँ     समाजिक     2021-09-22 10:07:45     #कोरोना की विदाई     4591        
कोरोना की विदाई

धरा का छीना श्चिंगार हमने 
अपनी जूबां के स्वाद की खातिर
जीव जन्तुओ से छीना 
जीने का अधिकार हमने 
धरा को करा लहूलुहान हमने 

गंगा,जमना, नदी,समुंद्र
सबने अपनी सुन्दरता खोई 
हिम ग्लेशियर भी पिंघँले
पर मानवता न रोई 

धरा नैन से छीन लिए 
हमने उसके सपन सलौने 
ये शहरो का बढ़ता कद
जंगल हो गए बौने

नदियों की धाराएंं मोड़ी
लहरों से छीना उनका गान 
ऋतुओं को भी हमने बदला 
अपने पर हमको अभिमान 

त्रिनैत्र जैसे चीर निंद्रा से जागे
कालिया फन पर जैसे श्रीकृष्ण नाचे
श्रीराम चले है जैसे 
करने दुष्टो का संहार 

जन्मा ऐसे है कोरोना 
कलयुग में जैसे हो अवतार 
जिसे कहते हम महामारी 
जीव,जन्तुओं का वो अवतारी

कहाँ गए वो परमाणु बम 
कहाँ गए सारे हथियार 
आज हम खड़े निहत्थे
वाह रे मानव तेरा विज्ञान 

वो कोरोना हम खिलौना 
निगल रहा वो संसार 
 सामने उसके जो भी आए
काल का ग्रास बनता जाए

 हिन्दु,मुस्लिम,सिख हो ईसाई 
सबको निगल रहा है ये भाई 
धर्म का चश्मा अब तो उतारो
अपने घर को अब तो संभालो 

सामने इसके अब न आओ 
क्रोध को इसके मत भड़काओ
घर में अपने सब छिप जाओ 
सामाजिक दूरी भी अपनाओ

तन मन का मैल निकालो
हाथो की करते रहो सफाई 
फिर होगी इसकी जरूर विदाई 
फिर होगी इसकी जरूर विदाई 

विपिन बंसल 
(कवि)
9540877709

Related Articles

"आने वाले कल की उम्मीद है हम युवा है हम"
"आने वाले कल की उम्मीद है हम युवा है हम"

आने वाले समय का चक्र है हम, बुजुर्गों की उम्मीदों का सपना है हम, अपनी धरोहर को बचाने का संकल्प है हम, युवा है हम, युवा

हमने की थी दोस्ती तुम से
हमने की थी दोस्ती तुम से

हमने की थी दोस्ती तुमसे, थोड़ा गम हमारा कम हो जाए, ग़म क्या कम होता, हमें अंधेरे कुएं में छोड़ आये।

बेशुमार मोहब्बत
बेशुमार मोहब्बत

आज का दिन कुछ खास सा है कोई अपना मेरे पास सा है कहता है जो मुझे प्यार से बड़ी माँ उसके लिए प्यार भी बेशुमार सा है।


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group