# दिल्ली होगा कब्जे में ...... - चिन्ता netam " मन "

# दिल्ली होगा कब्जे में ......     चिन्ता netam " मन "     कविताएँ     राजनितिक     2022-07-03 17:32:02         50933           

# दिल्ली होगा कब्जे में ......

# दिल्ली होगा कब्जे में.....

इधर-उधर सिर हिलाते
बड़ी अदा से हाथ मटकाते ,
करते दो टके की नेतागिरी 
देते हैं झूठे आश्वासन ........!
         
              ***
लायची दबाए मुंह बिचकाते ,
गप्पेँ भरे जुमलेबाजी
लंबे- लंबे फेंके ये ,
लिखा कोरा भाषण .........!

              ***
बेवकूफ बनाना 
फितरत इनकी ,
इन्होंने किया सिर्फ ,
देश का शोषण ...!

              ***
महंगाई ,अराजकता ,
चारों ओर फैलता 
हो रहा अब तो ,
सेना का राजनीतिकरण ...!

              ***
बहुत हो चुका इनकी गोटी ,
सेंके इन्होंने अपनी रोटी
बंद कर दो इनके दरवाजे ,
जिसने देखें अपने फायदे ....!

              ***
देश के युवाओं को ,
बंद करो गुमराह करना
एक ना एक दिन ,
आफत आ जायेगी वरना ...!
               
              ***
जोश से भरे नौजवानों,
मेरे देश के कर्णधारों
देश , काल , परिस्थिति को ,
अब तो तुम विचारों ...!

              ***
जिस दिन तुम युवा ,
पूरी शक्ति से
आ गए भर हुंकार 
अपने जज्बे में ...! 

              ***
नेता छोड़ेंगे राजधानी
रहेंगे सब सदमें में
तब सारा दिल्ली होगा ,
तुम्हारें कब्जे में .....!

चिन्ता नेताम " मन "
नगर पंचायत डोंगरगांव
राजनांदगांव ( छत्तीसगढ़ )

Related Articles

सुन्दर परिवार
Ratan kirtaniya
पिता :- अपने दो हैं आँखों का तारा संग में है इक प्यारा इन के बिना जीवन अधूरा रहेंगे सब मिल के नेक राह में चल के खुशबू
25515
Date:
03-07-2022
Time:
17:25
गजल--नजर से नजर मिला नहीं सकते
Mohan pathak
ग़ज़ल नजर से नजर मिला नहीं सकते, जब खुद की नजरों से गिर गए। झूठी शान शौकत की जादूगरी से, बजूद अपना ही मिट
19858
Date:
03-07-2022
Time:
22:34
स्वागतम
Meenubaliyan
मस्ती सी छा जाती है ज़ब दरवाजे पर घंटी बज जाती है, आते है मेहमान सभी ज़ब हम खुशी मे झूम गीत गाते है, पानी देने के बहाने
1760
Date:
03-07-2022
Time:
22:33
Please login your account to post comment here!