जिक्र भी होगा और फिक्र भी होगा - ADARSHPANDEY

जिक्र भी होगा और फिक्र भी होगा     ADARSHPANDEY     कविताएँ     देश-प्रेम     2022-08-14 14:25:51     #writeradarshpandey #shayri #bestshayri #writeradarshpandeykishayri #googleshyari     39491           

जिक्र भी होगा और फिक्र भी होगा

ज़िक्र  भी  होगा  तुम्हरा   ,फ़िक्र  भी 
होगा  तुम्हारा

 जिस दिन माँ न होगी घर मे,वो घर भी मंदिर
ना होगा तुम्हारा 


ये जो करीब का रिश्ता ,गरीब बना फिर रहा 
है ना

यहाँ माँ को तालाब और इश्क को समंदर
समझा होगा 


 ये जो इश्क़ मे समंदर  बने है  मोतरमा के
लिए  ना

ये खुद तो डूबेंगे ही, समदर को भी बदनाम
करते फिरेंगे



घर के गालियरों मे इश्क़ नही किया जाता
मेरे बच्चे 
उम्र तमाम है इश्क़ बदनाम नही किया जाता
मेरे बच्चे 


राह ऐ मोहब्बत भी ही अजीब चीज़ दोस्त 
जहाँ मन होगा वहा मुक़द्दर ना बना  लेखक

लेखक आदर्श पाण्डेय

Related Articles

काठ की नाव
Rambriksh Bahadurpuri ,Ambedkar Nagar
काठ की नाव तू बढ़ता चल, दो चार पथिक ले अपने संग, जिसका न अपना मंजिल पथ, फैला सागर का गहरा जल बने रुकावट लहरें हर पल | क
18259
Date:
14-08-2022
Time:
16:46
Writer by iqrar Ali, मोहब्बत शायरी दिल तोड़
Iqrar Ali (आई क्यों )
तुमने मेरी मोहब्बत को गिरवी रख कर किसी और से मोहब्बत कर ली, लेकिन तुम्हें वहां सिर्फ मोहब्बत मिलेगी वफा नही।
7044
Date:
14-08-2022
Time:
17:42
दोस्ती और प्यार
सरोज कसवां
काव्या अपनी रोज की रूटीन से ही कोचिंग क्लास जा रही होती है ! तभी उसे एक रास्ते पर ही छोटा सा घर जिसमें एक वृद्ध मह
55164
Date:
14-08-2022
Time:
14:30
Please login your account to post comment here!