बहू का घर - सरोज कसवां

बहू का घर     सरोज कसवां     कविताएँ     अन्य     2022-05-24 22:52:16         239623           

बहू का घर

""बहू का घर में आगमन होते ही !! 
      "" ससुर जी ने सास के कान में कहा 
ध्यान से देख लो सिर्फ चेहरा बदल कर बेटी घर आई है 💐💐



     💐रिश्ता वही सोच नई 💐
        

Related Articles

समस्या
Trilok Chand Jain
समस्याओं ने आने का हुजूम लगा रखा है पर मैंने भी तो सुलझाने का जुनून जगा रखा है आओ, आ जाओ मुझसा मेहरबां कोई नहीं होग
2302
Date:
24-05-2022
Time:
21:49
एक हत्यारिन मां
Shubham Kumar
यह घटना लगभग 30 वर्ष पहले की है, मेरी दादी मां सुनाया करती थी _ बिहार के पंचानवे नदियों में से, एक नदी सकरी भी है, जिन की
20232
Date:
24-05-2022
Time:
23:03
हैप्पी मदर्स डे
Aniket
जिंदगी‬ की पहली टीचर‬ ‎मां‬ जिंदगी की पहली दोस्त‬ मां, जिंदगी‬ भी मां ‎क्योंकि‬‎ जिंदगी देने वाली भी मां। हैप्
609
Date:
24-05-2022
Time:
23:06
Please login your account to post comment here!