मुझे याद किया करो इत्तफाक से। - मनोज कुमार

मुझे याद किया करो इत्तफाक से।     मनोज कुमार     कविताएँ     प्यार-महोब्बत     2021-09-22 10:31:41     याद,, प्रेम,, चाह     15644        
मुझे याद किया करो इत्तफाक से।

मेरी गली से जब गुजरो,
मुस्कानों की बारिश किया करो।
याद रहे मुझे भी, तुम दूर हो इसलिए,
थोड़ा शर्मा के पलके झुका के, मीठी- मीठी बातें किया करो।।


बहुत दिन हुए मिल नहीं पाए।
सपनों के पतंग और याद की डोर बांध उड़ाए।
भीग गई आंखे तन्हा रहकर तुम्हारे बिना।
पल- पल समय काट रहे हैं, अब तो मुश्किल है जीना।।


तुम दूर हो तो क्या हुआ, मोहब्बत तो बरकरार है।
बस यहीं बंधन टूटे ना, तुमसे उम्र भर प्यार है।
मै तो हर वक्त करता रहूंगा याद, तुम भी किया करो।
सच नहीं तो झूठ सही, किसी बहाने से गली तक आ जाया करो।।


तुम कभी जो आना, तुम मेरे होकर आना।
कुछ दिन रहना साथ में मेरे, नहीं बताना कोई बहाना।
बेव स हूं मैं तुम्हें देखने के लिए, एक बार तुम कर दो काम।
उजाला बनकर रहना मेरे जीवन में, सुबह हो या शाम।।


Related Articles

मन
मन

सभी की जिंदगी में एक ऐसा मोड़ भी आता है जब हम पीछे रह जाते हैं मन् आगे आगे जाता है तनहाई अच्छी लगती है फिर खुद से ह

कला खिले
कला खिले

कला खिले मिट्टी में मिल कर चल मन से, अपने करकर्मों जिंदा बन तू मर करके l  चल नभ पथ पर अम्बर छू लें,  कोशिश कर तेरी कला

गुरु का स्थान सबसे ऊंचा
गुरु का स्थान सबसे ऊंचा

गुरुवर में संसार समाया, जिसने संसार को महकाया, कालिक था ये जीवन अपने ज्ञान की ज्योति से इसको चमकाया, गुरु में ज्ञान


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group