गौरी गाय - सरोज कसवां

गौरी गाय     सरोज कसवां     कहानियाँ     अन्य     2022-05-24 23:54:46         251860        5.0/5 (1)    

गौरी गाय

गौरी गाय

एक शहर में एक जाने माने शिक्षक अपने परिवार के साथ रहते थे उनके परिवार में उनकी पत्नी का नाम जीकुमारी  था एक कुशल गृहिणी थी जो कई सालों से चार, पाँच साल के बच्चों को योगा सिखाती थी उनकी एक बेटी थी बेटी का नाम मंजू था जो संगीत और कंप्यूटर की पढ़ाई कर रही थी और उनके घर में रोज सुबह एक काका आकर घर का काम करते थे उनका राजेश  नाम था सब उन्हें राजेश  काका कहकर पुकारते थे।

एक दिन जीकुमारी  ने राजेश काका को बुलाकर पूछा कि "काका आपके पहचान में कोई साफ सुथरी लड़की है क्या जो घर में शाकाहारी खाना बनाती हो" राजेश काका बोले "जी मैडम साहब एक विनीता नाम की लड़की है पर वो मिर्चीदार खाना बनाती है उसके ससुर मेरे गांव के ही है"जीकुमारी ने पूछा "काका विनीता की उम्र क्या होगी"

" यहीं कोई 21, 22 साल होगी मैडम साहब विनीता का छ: साल का एक बेटा है जो कक्षा चार में पढ़ता है ।"

इस पर जीकु ने पूछा "पर काका विनीता का पति क्या करता है ?" 

काका बोले "मैडम साहब विनीता के पति का नाम राजु हैं वो सब्जी फलों का ठेला लगता है और अपनी गाय का दूध बेचता हैं"

जीकु ने कहा काका "विनीत को बोल देना कि वह कल से यहां खाना बनाने आने लगे" 

राजेश  काका ने कहा "जी मैडम साहब" 

अगले दिन से विनीता जीकु के घर में खाना पकाने आने लगी पहले दिन वो अपने साथ कलाकन्द मिठाई का एक डिब्बा लाई ।  ने  से पूछा 

"ये मिठाई तुमने बनाई हैं क्या" उसने कहा "हाँ जीजी मेरे पास एक बहुत सुंदर सी गौरी नाम की गाय है मैंने उसीके दूध से ये मिठाई बनाई हैं और बाकी बचे 1 लीटर दूध को सुमित बेच देते हैं दरसल आज ही नई मिठाई की दूकान से हमें 50 डिब्बे कलाकन्द मिठाई का ऑर्डर मिला है अब दूकान के ग्राहकों मिठाई पसंद आ गई तो एक और ऑर्डर पक्का हो जाएगा । अभी एक ही दूकान से ऑर्डर मिलता है ।"

शुरू में वह बहुत मिर्चीदार खाना बनाती थी पर कुछ समय में जीकु के अनुसार कम मिर्ची का खाना बनाने लगी । कुछ ही दिनों में विनीता शीतल के घर की सदस्य बन गई । कभी- कभी विनीता का बेटा मंजू के साथ खेलने आता था अब रोज सुबह खाना बनाने आती और जब तक खाना बनाती तब तक जिकु को पिछले दिन की पूरी दिनचर्या और अपने दिल की सारी बातें बताती। 

एक दिन उसने नमस्ते जीजी के अलावा कुछ भी नहीं कहा और अपना पूरा काम करके चली गई । 

अगले दिन भी यही होता पर जीकुमारी  के पूछने पर विनीता ने बताया

"जीजी कल सुबह मेरी गौरी गाय मर गई और जीजी गांव का एक नियम है कि वहां की किसी बेटी की शादी के बाद विदाई के समय अपने साथ एक गाय ले जाती है और बहू आती है तो अपने साथ एक गाय ले आती है मुझे उसकी बहुत याद आ रही है।"

जिकु ने कहा "अरे ये तो बहुत गलत हुआ"

"हाँ जीजी विनीता अब तुम्हारे दूध और मिठाई के काम का क्या होगा "

"जीजी एक साल पहले मेरी गौरी गाय ने दो बछड़े दिये थे जो अब दो गायें बन गई है"

इसपर जाकु ने कहा तो तुम इतनी दुखी क्यों हो रही हो गौरी गाय ने जाने से पहले तुम्हें अपने जैसी प्यारी दो गायें दी है तुमको तो अब उनका अच्छे से ध्यान रखना चाहिए"

इस पर विनीता ने कहा "जी जीजी आपने सही कहा"

इसके बाद विनीता खुशी-खुशी काम करने लगी । 

कुछ दिनों बाद विनीता ने आकर कहा "जीजी सुमित और मैंने सोच रहे हैं कि हम अपनी खुद की मिठाई की दूकान खोलें"

जिकु ने कहा "बिल्कुल खोलो" विनीता उसके पति सुमित ने अगले महीने ही अपनी खुद की मिठाई की दूकान खोल ली जो कुछ ही समय में शहर की मशहूर दूकान बन गई ।

******

सरोज कसवाॅ

Related Articles

शक्ति दे
Mk Rana
शक्ति दे हमको हे शारदा माँ , मन में दे विश्वास हे ज्योति माँ , रस्ते पे चले हम धर्म के , करे न कोई भूल हे जग माँ .......... म
1324
Date:
24-05-2022
Time:
22:47
मदर्स डे
Aniket
अपने आंचल की छाओं में, छिपा लेती है हर दुःख से वोह एक दुआ दे दे तो काम सारे पूरे हों.. अदृश्य है भगवान, ऐसा कहते है जो.
28624
Date:
25-05-2022
Time:
00:37
"मानव जात से प्रभु इस कोरोना को खत्म करो ना"
Shreyansh kumar jain
मानव जात से प्रभु यह कैसा घोर अपराध हुआ है, अंधियारे काले बादलों से प्रभु मेरा पुरा विश्व ढका है, शमशानों पर चिताओ क
26641
Date:
24-05-2022
Time:
22:04
Please login your account to post comment here!
Sahity Live     rated 5     on 2021-10-11 11:34:10
 nice