वाकिफ़ - Vipin Bansal

वाकिफ़     Vipin Bansal     गीत     दुःखद     2021-09-22 10:55:49     #वाकिफ़     14484        
वाकिफ़

गम से वाकिफ़,खुशी से अनजान हूँ ! 
जी रहा हूँ जिन्दगी से अनजान हूँ !! 

ये गम है तो हम है
खुशी कि खुशी से
निकलेगा दम है
गम के सांये में जिन्दगी का मेहमान हूँ

गम से वाकिफ़,खुशी से अनजान हूँ ! 
जी रहा हूँ जिन्दगी से अनजान हूँ !! 

खुद को कभी समझा नहीं
खुद से ही अनजान हूँ 
अपने ही घर में,यारों मैं मेहमान हूँ
गैरो से वाकिफ़ अपनो से अनजान हूँ 

गम से वाकिफ़,खुशी से अनजान हूँ ! 
जी रहा हूँ जिन्दगी से अनजान हूँ !! 

जो मिला सही मिला
जीवन से ना कोई गिला
जब से गम गले लगा,पाप का कद घटने लगा
उस पार से वाकिफ़ इस पार से अनजान हूँ 

गम से वाकिफ़,खुशी से अनजान हूँ ! 
जी रहा हूँ जिन्दगी से अनजान हूँ !!

         विपिन बंसल

Related Articles

जिस्म थे,नुमाइश थी,दिखावट थी सब ओर
जिस्म थे,नुमाइश थी,दिखावट थी सब ओर

जिस्म थे नुमाइश थी दिखावट थी सब ओर असल चीज गायब थी बनावट थी सब और खानदान ही खानदान के खून का प्यासा था रोजी रोटी के

अनमोल
अनमोल

तुम चीज क्या हो? इसकी तुझे खबर नहीं है। तुम्हारी कीमत बहुत है, मुझे तो लगता है, तुम हो अनमोल मेरे खजाने का, सबसे हसी

मेरे यार - मेरे लिए मेरी दुनिया मेरे यार है
मेरे यार - मेरे लिए मेरी दुनिया मेरे यार है

मेरे लिए मेरी दुनिया मेरे यार है जिनके बिना मेरा हर एक पल बेकार है क्यों छोड़कर आया में तुम्हे परदेश जहां तुम नही स


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group