कुछ कहना - पूनम मिश्रा

कुछ कहना     पूनम मिश्रा     गीत     समाजिक     2021-09-26 14:09:58     अपनी भावनाओं को व्यक्त करना     24849        
कुछ कहना

अब मैं भी कुछ कहना चाहती हूं अपने अंतर्मन की ,
अपने भावनाओं की ,
अपनी उलझनों की ,
अपनी परेशानियों को ,
अपनी दुविधा को ,
हर पल हर समय,
 मन में उठते ,
हजारों सवालों को ,
अपने जज्बातों को ,
बयां करना चाहती हूं ,
अब मैं भी कुछ कहना चाहती हूं

Related Articles

लग्न
लग्न

✨✨ᑭYᗩᖇ ՏIᖇᖴ ᗩᑭᑎᗴ Kᗩᗰ Oᖇ IՏᕼᐯᗩᖇ Տᗴ KᖇO Yᗴ ᗪOᑎO KᗷᕼI ᗪᕼOKᕼᗩ ᑎᕼI ᗪᗴᘜᗴ ✨✨

गणेश श्लोक
गणेश श्लोक

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥

बाप चौकीदार,बाप भिखारी
बाप चौकीदार,बाप भिखारी

बस कंडक्टर ने एक बच्चे से पूछा - तुम हर रोज दरवाजे के पास ही खड़े रहते हो। तुम्हारा बाप चौकीदार है क्या ? बच्चा बहु


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group