नवीनतम हास्य-व्यंग रचनाएँ

वो
Raj Ashok
वो चलके आई थी, हाँ ,हाँ वो चलके आई थी , पास मेरे ...पर कुछ कह ना सकी हाँ शायद , वो कुछ कह ना क्यो , के मेरी माँ मेरे साथ म
28
Date:
06-10-2022
Time:
05:18
काश मैं फिर, एक बच्ची बन जाती।
Meena ahirwar
मन करता फिर, एक बच्ची बन जाऊँ। कुछ हसींन यादों को , फिर बचपन में पाऊँ।। मेरा रूठना और माँ का मनाना, उन यादों में खो
85977
Date:
06-10-2022
Time:
04:31
🙏 नमस्कार... ✍️
Amit Kumar prasad
त्तुम.. त्तुम.. दे.. रे.. नारे.. देरे.. धिनक.. धिनक.. त्तुम.. त्तुम.. नारे.. सारे.. देरे.. धिनक.. धिनक.. धिन.. धिन.. सारे.. मेरे.. तेरे.
78092
Date:
06-10-2022
Time:
03:10
😔 बुद्धि बड़ी कि भैंस.... 🤔
Amit Kumar prasad
मन्द - मन्द चल रही हवा, और शुश्क - शुश्क शीत्तलत्ता था! टपक रहीं थी शुधा कि बुन्द, मेरा मन स्वदेश में डुबा था!!
72366
Date:
06-10-2022
Time:
03:27
रोता रहा सलाहपुर
Ajay kumar suraj
मैं कल भी बहुत चिंतित और उदास था और आज भी! जब भी मैं हस्तिनापुर के भविष्य के लिए महाराज धृतराष्ट्र को चेतावनी दी या
71817
Date:
06-10-2022
Time:
04:31
#मेरा रंगीला यार
महेश्वर उनियाल उत्तराखंडी
"मेरा रंगीला यार” झूमता लड़खड़ा होता है दीदार यादों में जिसके रहता है संसार बांटता फिरता है हमेशा वो प्यार ऐस
70286
Date:
06-10-2022
Time:
04:31
My training journey
Ritika Ravindra
इस महीने में कुछ बात थी... TTC training कुछ खास थी.... Cantine कि चाय कुछ ठिक थी.. पर उससे भी खास हम पाँचो fraind कि मटरगस्ती थी.... मेस का ख
543
Date:
06-10-2022
Time:
04:10
School hostal
Ritika Ravindra
हाॅस्पिटल वाली थाली, उसमें है बीमारो वाली दाल। उसकी शोभा बडा रहे सलाद महाराज। खाना देखकर हमारी भु
497
Date:
06-10-2022
Time:
05:42
वाह रे दुनियां
Ranjana sharma
दूसरों के मरने पर आंसू बहाते हैं और अपने लोगो के मरने के लिए दुआ करते हैं वाह रेे दुनियां देखी तेरी अपनेपन! धन्
66316
Date:
05-10-2022
Time:
16:17
की गाते गाते सबकुछ भुल जाते हैं,।
कविता पेटशाली
ये लाइन आजकल के कवियों के लिए की कवियों के इस मेले में ,न जाने कितने झमेले हैं,। मैं,लिखती हूँ ,मिटाती हूँ,।मगर ,इक बा
58314
Date:
06-10-2022
Time:
05:31
*उल्टी यात्रा* प्रस्तुतकर्ता-सपनों का सौदागर....करण सिंह
Karan Singh
*उल्टी यात्रा* प्रस्तुतकर्ता-सपनों का सौदागर....करण सिंह 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 2022 से 1970 के
4053
Date:
06-10-2022
Time:
05:43
कर्जदार
Ranjana sharma
एक रहम दिल इंसान ने किसी अपने की मदद करना चाहा , क्योंकि वह मुसीबत में था, लेकिन उस मददगार को नहीं पता था कि उसका मदद क
53275
Date:
06-10-2022
Time:
05:13