नवीनतम हास्य-व्यंग रचनाएँ

सरकारी दफ़्तर की हकीकत
Raghvendra rajapati
एक दिन हम पहुचे न्यायलय बनवाने एक प्रमाण पत्र वहा पर कुछ लोग काले कोट मे घूम रहे थे यत्र तत्र वहा पर बनी थी बहु
73
Date:
01-02-2023
Time:
17:32
रेलवे स्टेशन पर मोबाइल चार्जिंग की समस्या
Raghvendra rajapati
स्टेशन में बैठा मै बड़े चाव से मोबाइल चला रहा था और बगल में बैठा एक लड़का मुझे घूरे जा रहा था में उठ गया कि शायद मेर
55
Date:
31-01-2023
Time:
20:33
घमंड
Shamma parween
डाल को घमंड हो गया की पक्षी मूझ पे बैठी है पागल को कोई कहो कि वह भी शाखा से जुड़ी है
29
Date:
01-02-2023
Time:
14:21
छछन्दी औरत/ चतुर नार चालीसा
MAHESH
स्वरचित रचना---छछन्दी औरत/ चतुर नार चालीसा! ‌ संदर्भ---हास्य-व्यंग ! दोहा--- श्री, मणि, रम्भा, वारूणी, अमिय, शंख, गजराज!
1968
Date:
31-01-2023
Time:
22:06
हास्य-व्यंग्य (समसामयिक)
MAHESH
स्वरचित रचना---काव कही कुछ कहि न जावे! संदर्भ--- हास्य व्यंग (समसामयिक) काव कही कुछ कहि न जावै,
1946
Date:
01-02-2023
Time:
09:34
व्यंग- भारत जोड़ो यात्रा!
Jitendra Sharma
व्यंग~"भारत जोड़ो यात्रा" लेखक~जितेन्द्र शर्मा। तिथी~05/01/2023 मुख्य मार्ग पर घर होने के कुछ विशेष लाभ भले ही हों कभ
6053
Date:
01-02-2023
Time:
23:30
दासता हमारी
धर्मपाल सावनेर
कितने हसीन पल थे जब हम तुम मिले थे वो राते वो बाते वो वो लम्हे वो मुलाकाते।। ना तुम्हे नींद अति थी ना हमे चेन आए एक द
1889
Date:
01-02-2023
Time:
11:30
गज़ल
Sanam kumari
हमने ताजो तख्त को पलटते देखा है। और पत्थर को खुदा बनते देखा है। जीत मेरी तकदीर की मोहताज नहीं हमने समंदर को बारिश ब
81198
Date:
01-02-2023
Time:
20:08
कब आ गया बुढ़ापा
akhilesh Shrivastava
*कब आ गया बुढ़ापा* मुझे अपनी जवानी पर बड़ा ही जोश था । कब ढल गई जवानी पता ही नहीं चला।। कैसे समय निकल गया पता ही नह
974
Date:
01-02-2023
Time:
18:48
स्कूल का सफर।
Neha bansla
स्कूल में शिक्षक ने खूब हमे सिखाया और उस A से Z तक के सफर ने खूब हमे रुलाया......LKG तक तितलियां उड़ने लगी थी अंबर और first class तक
1466
Date:
01-02-2023
Time:
16:07
जीवन की राह.....
BASANT KUMAR JANGDE
कुछ काम करो, कुछ काम करो जग में रह कर कुछ नाम करो यह जन्म हुआ किस अर्थ अहो समझो जिसमें यह व्यर्थ न हो कुछ तो उपयुक्त क
51174
Date:
01-02-2023
Time:
13:27
कुत्तों के ठाठ
akhilesh Shrivastava
* कुत्तों के ठाठ * आजकल कुत्तों के बड़े ठाठ चल रहे हैं आवारा हों या पालतू ये मजे से पल रहे हैं।। शेरू जैकी टामी जै
1079
Date:
01-02-2023
Time:
10:41