बेवफा - Vipin Bansal

बेवफा     Vipin Bansal     कविताएँ     दुःखद     2021-09-22 11:12:18     #बेवफा     6118        
बेवफा

तकदीर ही जब बेवफा हो जाए
आदमी जाए तो कहाँ जाए
जी रहे हो बस आज की खातिर
किसे क्या पता कल क्या हो जाए 
तकदीर ही जब बेवफा हो जाए

ये सांसे शूलों सी चुंबन 
ये जीवन एक अंधा सफर
इस पार से उस पार का सफर 
न जाने कैसा ये किसे खबर
इस पार से उस पार 
शायद जाना हो आसान 
गर ये दर्द वहाँ भी सताए 
इस पार से उस पार
उस पार से कहाँ जाए
तकदीर ही जब बेवफा हो जाए

सुकून की चाह में एक उम्र गुजारी
गम ने ऐसी कुंडली मारी 
खुशबु उड़ गई जीवन की सारी
सूखे फूल सूखी फुलवारी
जिस्म ही जब रोग बन जाए
यौवन का सूरज जब ढल जाए
ढहती दीवार के सायें में
उम्मीद के दीपक क्या जलाए
तकदीर ही जब बेवफा हो जाए
 
          विपिन बंसल

Related Articles

प्यार के किस्से बड़े अजीब थे
प्यार के किस्से बड़े अजीब थे

प्यार के किस्से बड़े अजीब थे, वे दिल के कितने करीब थे, आंखें बंद करूं या खोलू वे पलकों के करीब थे,वे हमारे सपनों के जा

गलती मेरी थी
गलती मेरी थी

दोष क्या लगाऊँ आपको, गलती तो मेरी थी... सपने मैंने सजाये और वो टूटे ,ये तो रब की मर्जी थी... आँख से आसु गिरते रहे और रात न

Yaad rahe toh
Yaad rahe toh

𝓔𝓴 𝓴𝓱𝓪𝔂𝓪𝓵 𝓱𝓲 𝓽𝓸 𝓱𝓸𝓸𝓷 𝓶𝓪𝓲𝓷,𝔂𝓪𝓪𝓭 𝓻𝓪𝓱𝓮 𝓽𝓸 𝓻𝓪𝓴𝓱 𝓵𝓮𝓷𝓪, 𝓫𝓪𝓻𝓷𝓪 𝓽𝓸 100 𝓫𝓪𝓱𝓪𝓷𝓮 𝓶𝓲𝓵𝓮𝓷𝓰𝓮 𝓶𝓾𝓳𝓱𝓮 𝓫𝓱𝓾𝓵𝓷𝓮


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group