मैं समय हूँ - Anany shukla

मैं समय हूँ     Anany shukla     कविताएँ     समाजिक     2022-10-06 06:31:13     मैं समय हूँ किसी का भी नहीं हूँ     86998           

मैं समय हूँ

मैं समय हूंँ।
मैं हूं सबके पास, पर किसी का भी नहीं
हूंँ
मैं समय हूंँ।
मैं वही हूंँ, जिसने राजा को बनवास दिला
डाला
मैं वही हूंँ, जिसने महाभारत का युद्ध
करा डाला
नहीं कोई है ऐसी जगह, जहां मैं नहीं हूंँ
मैं समय हूंँ।
न जाने कितनों के मैंने आदि अंत देखे
हैं
न जाने कितने अमीरों को रंक बनते देखे
है
नहीं हूं मैं स्थिर, पर अनिश्चित भी
नहीं हूं
मैं समय हूंँ।
ना मेरा कोई अपना है ना कोई है पराया
जिसने जैसा किया मैंने वैसा रिश्ता
निभाया
नहीं हूं मैं बैरी किसी का, पर मित्र भी
नहीं हूंँ
मैं समय हूंँ।
कहीं दुखों का पहाड़ देता हूंँ,
तो कहीं खुशियों की सौगात देता हूंँ
जिसने जैसा किया वैसा उपहार देता हूंँ
लेता हूं परीक्षा, पर निष्ठुर नहीं हूँ
मैं समय हूंँ।

Related Articles

सपने तेरे बडे
Swami Ganganiya
सपने तेरे बडे हुये तो क्या हम भी कोई छोटे तो नही माना तेरी नजरों मे हम छोेटे सही पर इतने छोेटे नही जो किसी को नजर
14683
Date:
06-10-2022
Time:
05:23
जिंदगी
Ranjana sharma
जिंदगी में हम जो चाहते हैं वो जरूरी नहीं है कि हमें वो मिल ही जाए कभी -कभी किसी दूसरे की खुशी हमारी जिदंगी बन जाती ह
56903
Date:
06-10-2022
Time:
06:31
हकीकत
Vipin Bansal
कलम में इतनी धार दे ! ऐ माँ शारदे,ऐ माँ शारदे !! कलम से निकले अलफाज ! वक्त ए हकीकत हो जाए !! बात में हो वजन इतना ! हर शब्द क
20507
Date:
06-10-2022
Time:
06:34
Please login your account to post comment here!