मैं फिलीस्तीन हूँ सियासत मे जलता हूँ - मारूफ आलम

मैं फिलीस्तीन हूँ सियासत मे जलता हूँ     मारूफ आलम     शायरी     राजनितिक     2021-09-22 11:07:15     # political shayari# social poetry# najm#नज्म     144        
मैं फिलीस्तीन हूँ सियासत मे जलता हूँ

जालिमों की हिरासत मे जलता हूँ
अपने घर,अपनी रियासत मे जलता हूँ
तुम मुझे पहचानते हो ऐ दुनियाँ जहाँ वालो
मैं फिलीस्तीन हूँ सियासत मे जलता हूँ
मैने मूसा से ईसा का जमाना देखा है
मैंने कई सल्तनतों का आना जाना देखा है
मगर इतिहास गवाह है कभी भी 
इजराइल नही था मैं
मैं आज भी फिलीस्तीन हूँ और कल भी
फिलीस्तीन था मैं
मेरे भाईयों मे मुझको लेकर इख्तेलाफ बहुत हैं
मेरे अपने ही मेरे खिलाफ बहुत हैं
अपने बुजुर्गों की विरासत मै जलता हू
मै फिलीस्तीन हूँ सियासत मै जलता हूँ
हर सदी मे अपने लाखों लोगों को खोता हूँ
मैं बारूदों से जख्मी होकर सदी दर सदी रोता हूँ
मेरा फैसला ना जाने क्यों नही होता
मैं कमजोर हूँ शायद यूँ नही होता
दम घुटता है सदियों से हिरासत मे जलता हूँ
मैं फिलीस्तीन हूँ सियासत मे जलता हूँ
मारुफ आलम







    

Related Articles

अल्फाज़-ए-धरा
अल्फाज़-ए-धरा

(1). हमारे दरमियाँ दीवार है क्या? तेरा मेरा मिलना दुश्वार है क्या? इक-इक साँस मुझे बोझ लगती है, तू भी मेरे बिना बे-क़रार

मैं एक याचक हूं
मैं एक याचक हूं

नित्य कोई याचना करूं नित्य कोई कामना करूं, तो आओ दोस्तों एक नवीण रचना करें । शक्ति और ऊर्जा मिले, रंग मिले_रूप मिले

जीने का सहारा हूं मैं
जीने का सहारा हूं मैं

न महलों बीच उजाला हूं मैं न ज्वालामुखी का ज्वाला हूं मैं न आसमान का तारा हूं मैं न मेघ बीच चंचल चपला, न अग्नि बीच अं


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group