नवीनतम ग़ज़ल

उसने हमसे इस कदर मुँह मोड़ा जैसे हमारी ज़िंदगी ख़राब है सो है उसके बिछड़ने के बाद यारो उस पानी के गिलास में शराब है सो है
Ritvik Singh
उसने हमसे इस कदर मुँह मोड़ा जैसे हमारी ज़िंदगी ख़राब है सो है उसके बिछड़ने के बाद यारो उस पानी के गिलास में शराब ह
3
Date:
02-02-2023
Time:
00:01
एक तरफ सपना रख एक तरफ दुनिया दारी रख
धर्मपाल सावनेर
प्रयासों का सिलसिला अभी भी जारी रख मिलेगी मंजिल अपनी पक्की तयारी रख ।। मरने के बाद भी तुझे याद करेगी ये दुनिया अख
80400
Date:
01-02-2023
Time:
19:08
ए मुहब्बत तूने हमे कभी अजमाया कहा
धर्मपाल सावनेर
सूख गए दरखत तब से हुआ साया काहा कोई मुसाफिर जब से ठहरने आया काहा ।। माना के मिलने आए नही तुमसे हम मगर तुमने भी कभी ह
10
Date:
01-02-2023
Time:
19:43
में किसी और का हु अब तुम्हारा नहीं
धर्मपाल सावनेर
कहा कहा मेने तुमको पुकारा नही एक लम्हा याद किए बिना गुजारा नहीं हक मूझपर जताना छोड़ दो अब में किसी और का हु अब तु
60
Date:
02-02-2023
Time:
01:27
आंखो को जी भर के रुला दिया
धर्मपाल सावनेर
अपनी आंखो को हमने जी भर के रूला दिया भूलने वालो को हमने कब का भुला दिया ।। धड़क रहा था बोहोत जोरों से दिल ये मेरा ह
78
Date:
02-02-2023
Time:
00:24
ये दुनिया है दूसरी....
मोती लाल साहु
ये दुनिया है दूसरी- जो हम देख रहे हैं! हकीकत- नजरों से ओझल है, मन के इस पर्दे में! ये हैं माया की नगरी- जो तुम देख रहे
80383
Date:
01-02-2023
Time:
22:43
ये साहिल मिला है मुद्दत से....
मोती लाल साहु
ये साहिल मिला है मुद्दत से, ये साहिल मिला है मुद्दत से। किसी ने उजाला कर दिया है।। तुम्हारे ही दर् पे शिरकत, तुम्ह
80425
Date:
02-02-2023
Time:
01:36
मुझे किनारा मिल गया है....
मोती लाल साहु
या खुदा तुम्हारा शुक्र है कि, मुझे किनारा मिल गया है! फिरता था बेगाना बिन राह, डूबते को सहारा मिल गया है। अब तो वह ख
80304
Date:
01-02-2023
Time:
02:12
बरसात।
Neha bansla
हम नमी ( भीगने) से क्या डरने लगे... बारिश हमे डरा रही थी....... पर वो शायद भूल गई की बारिशों से तो अपनी पुरानी यारी थी........ पर
27
Date:
01-02-2023
Time:
11:02
सासो के किनारे।
Neha bansla
सासो के .......... किनारे बड़े तन्हा थे......... तू आके इन्हे छू ले बस यही तो मेरे अरमा थे। सारी दुनिया से मुझे क्या लेना....... बस
94
Date:
01-02-2023
Time:
04:26
शिकायत
Neha bansla
की............. मुद्दत_ ए _तोहिम होगी मेरे इश्क की... जिस दिन तुझ बेवफ़ा को, याद न करू और जब निकल जाए अपना सिक्का खोटा तो इस खु
59
Date:
01-02-2023
Time:
22:23
दर्दे जुदाई
धर्मपाल सावनेर
ये विरह वेदना को अब कोन मिटाएगा अब तो ये दर्द और बड़ता चला जायेगा जीने की तमन्ना मर चुकी हो जिसकी ऐसी जिंदगी भी जी
32
Date:
01-02-2023
Time:
12:11