ग़ज़ल

नवीनतम ग़ज़ल

बातों ही बातों मे बात कजा हो जाऐगी
बातों ही बातों मे बात कजा हो जाऐगी

बातों ही बातों मे बात कजा हो जाएगी नींद मारी जाएगी रात कजा हो जाएगी ये कैसा धरम है ये कैसे लोग हैं जिनकी अछूतों के

gareeb tha fakeer tha kalandar tha bo
gareeb tha fakeer tha kalandar tha bo

गरीब था फकीर था कलन्दर था वो जो भी था दिल का सिकंदर था वो न नदी था न पोखर था न दरिया था दूर तलक़ फैला हुआ समंदर था वो

had se bekabu hota hua parinda
had se bekabu hota hua parinda

हद से बेकाबू होता हुआ परिंदा होशो हवास खोता हुआ परिंदा अब हर डाल पर मौजूद है बस बैबस उदास रोता हुआ परिंदा खुआबों

दूरियाँ
दूरियाँ

दिल में प्यार दरमियाँ दूरियाँ रख दी ! पाक रिस्तो के बीच मजबूरियाँ रख दी !! बात समझने के लिए कुछ, भी नहीं ! जिंदगी के त

अनमोल
अनमोल

तुम चीज क्या हो? इसकी तुझे खबर नहीं है। तुम्हारी कीमत बहुत है, मुझे तो लगता है, तुम हो अनमोल मेरे खजाने का, सबसे हसी

कुरान दुनियाँ की हर एक जुबान तक पहुंचे
कुरान दुनियाँ की हर एक जुबान तक पहुंचे

यमन,कुवैत,कतर ना सिर्फ ईरान तक पहुंचे खुदा का पैगाम हर देश हर इंसान तक पहुंचे भाषा का कहीं कोई अवरोध ना रहे ऐ दोस्त

ibaadaton ki duniya me khoya ho jaise
ibaadaton ki duniya me khoya ho jaise

इबादतों की दुनियाँ मे खोया हो जैसे वो सोया था ऐसे फरिश्ता सोया हो जैसे उसके पत्तों से शबनम ऐसे झड़ती थी रात भर वो

बंजर करके छोड़ेगा
बंजर करके छोड़ेगा

और कितना बवंडर करके छोड़ेगा वक़्त क्या सब खंण्डहर करके छोड़ेगा हाकिम खुश है अपने फैसलों पर लगता है सब बंजर करके छ

आदतों से सुधरा तो सुधरता गया वो
आदतों से सुधरा तो सुधरता गया वो

आदतों से सुधरा तो सुधरता गया वो फिर जो उभरा तो उभरता गया वो इतनी सच्ची थी रूह उसकी कि जब जिस्म मे उतरा तो उतरता गया

कौन हमेशा के लियें कागज की स्याही बनेगा
कौन हमेशा के लियें कागज की स्याही बनेगा

सच्चाई की कलम,हक की रौशनाई बनेगा है कोई जो दावत देगा,खुदा का दाई बनेगा इबादत करने वाले लोग फिरदौस मे जाऐंगे बेनमा

खुश्क लबों की प्यास ही रहूंगा
खुश्क लबों की प्यास ही रहूंगा

खुश्क लबों की प्यास ही रहूंगा आस हूँ मै और आस ही रहूंगा मुझे कोई दुख नही है यार मगर आदतन मायूस उदास ही रहूंगा जमान

आशिकी
आशिकी

कलम मेरी हो गई दिवानी कलम से मेरी आशिकी पुरानी दिले दर्दे गम को पीती हो जैसे जख्मों को शब्दों से सिती है ऐसे दिले म

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group