धार्मिक रचनाएँ

नवीनतम धार्मिक रचनाएँ

कला
कला

ए शारदा माँ झूठ बोलने की मुझे कला दे दो ! भेद सके न जिसको सच,ऐसा मुझे कवच दे दो !! सच सुनने की अब, किसी को आदत नहीं । सच क

कुरान दुनियाँ की हर एक जुबान तक पहुंचे
कुरान दुनियाँ की हर एक जुबान तक पहुंचे

यमन,कुवैत,कतर ना सिर्फ ईरान तक पहुंचे खुदा का पैगाम हर देश हर इंसान तक पहुंचे भाषा का कहीं कोई अवरोध ना रहे ऐ दोस्त

प्रकृति के दर्शन
प्रकृति के दर्शन

देखूं जब चांद को इसकी शीतलता निहारू, मन को देती है शांति ,इसकी गुणवत्ता कैसे समझाऊं, तारो की झिलमिल ,थाल में कैसे सज

उसूलों के सिक्के
उसूलों के सिक्के

उसूलों के सिक्के ये है हमारे पूर्वजों के सिक्के जिनके उसूलों पर आज हम चलते है वो है हमारे पूर्वजों के सिक्के वो ह

अजूबा ताजमहल
अजूबा ताजमहल

अचंभा क्या है? ताजमहल का बस तरासे चूना पत्थर ? शायद नहीं ! किया अजूबा इसे विश्व में , भाव छिपा क्या इसके अंदर ? देखा ज

कैकेई संताप
कैकेई संताप

रोके रुके न नीर नयन से ,राम चले जब छोड़ भवन से जड़ चेतन हो शून्य चले थे,कुछ कहे कौन हो मूक बने थे दु:ख को सहे जब दे विधा

कौन हमेशा के लियें कागज की स्याही बनेगा
कौन हमेशा के लियें कागज की स्याही बनेगा

सच्चाई की कलम,हक की रौशनाई बनेगा है कोई जो दावत देगा,खुदा का दाई बनेगा इबादत करने वाले लोग फिरदौस मे जाऐंगे बेनमा

गणेश श्लोक
गणेश श्लोक

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥

हकीकत
हकीकत

कलम में इतनी धार दे ! ऐ माँ शारदे,ऐ माँ शारदे !! कलम से निकले अलफाज ! वक्त ए हकीकत हो जाए !! बात में हो वजन इतना ! हर शब्द क

तेरे दर्शन को तरसते हैं
तेरे दर्शन को तरसते हैं

तेरे दर्शन को तरसे है, तेरे दिलदार को तरसते हैं, तेरे भक्त मैया मिलने को तरसते हैं। जय मां लक्ष्मी 🙏

चांद से भी प्यारा मैया तेरा मुखड़ा लगे
चांद से भी प्यारा मैया तेरा मुखड़ा लगे

चांद से भी प्यारा मैया तेरा मुखड़ा लगे,तेरी बिंदिया पर मैया हीरे जड़े, तेरी चूंदड़ी पर मैया सितारे जड़े।

ईश्वर की देन है प्रकृति
ईश्वर की देन है प्रकृति

ईश्वर की देन है प्रकृति, मानवता के लिए वरदान है, हम सब मिलकर इसकी रक्षा करें, ये हमारी जीवनदान है।

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group