Ajeet

Ajeet

मेरा नाम अजीत हे, मेने B.A स्नातक की डिग्री चौधरी चरण सिंह यूनिवरसिटी मेरठ से प्राप्त की है, में गाँव नया गाँव पोस्ट सिकंदराबाद जिला बुलंदशहर का निवासी हूँ | में अपने विचारों को साहित्य लाइव परिवार के माध्यम से लोगो तक पहुँचा रहा हूँ , जिससे की में साहित्य लाइव परिवार का आभारी हूँ | धन्यवाद साहित्य लाइव परिवार/

Address Village Naya Gaon Post Sikandrabad Distt Bulandshahr Pin code 203205

View Certificate Send Message
  • Followers:
    0
  • Following:
    0
  • Total Articles:
    72

Recent Articles


जो जी रहें हे नशे की दुनिया मे
जो जी रहें हे नशे की दुनिया मे

जो जी रहें हे नशे क

रिश्ते यू न तोड़ा करो
रिश्ते यू न तोड़ा करो

रिश्ते यू न तोड़ा कर

एक रोटी
एक रोटी

दो आते बच्चे सुबह

तू मिला होता तो
तू मिला होता तो

तू मिला होता तो रि

मीरा का तान हो जाऊँ में
मीरा का तान हो जाऊँ में

मीरा का तान हो जाऊँ

ठेर जा मुसाफिर
ठेर जा मुसाफिर

ठेर जा मुसाफिर गर्

में अपने गीत बेचने आऊँगा
में अपने गीत बेचने आऊँगा

ए दोस्त रूठ मत जाना

इस कदर न बहा आशुओं को
इस कदर न बहा आशुओं को

इस कदर न बहा आशुओं क

क्या तुमने कुछ कहा
क्या तुमने कुछ कहा

पहाड़ों से बहते नंग

दोस्त तुम बहुत अच्छे लगते हो
दोस्त तुम बहुत अच्छे लगते हो

दोस्त तुम बहुत अच्

बेटियाँ किस रूप मैं मिलती है
बेटियाँ किस रूप मैं मिलती है

बेटियाँ किस रूप मै

में पानी हूँ
में पानी हूँ

में उड़ रहा हूँ घटा

प्रिय तुम प्यार मेरे
प्रिय तुम प्यार मेरे

पतझड़ की छाँओ मे बे

तेरे आँगन का गुलमोहर
तेरे आँगन का गुलमोहर

तेरे आँगन का गुलमो

और तुम कितने अच्छे लगते हो
और तुम कितने अच्छे लगते हो

ये रातें तुम्हारा

अति सुन्दर तुम
अति सुन्दर तुम

अति सुन्दर तुम फिर

जाग रात के जुगनू चोर
जाग रात के जुगनू चोर

जाग रात के जुगनू चो

लोगो का अजीब रिश्ता है
लोगो का अजीब रिश्ता है

लोगो का अजीब रिश्त

पर्दा
पर्दा

प्रिय दोस्त पर्दा

फिर भी अन्धेरे में था
फिर भी अन्धेरे में था

फिर भी अन्धेरे में

बिना सहारे के
बिना सहारे के

चलता है बिना सहारे

रूठ जाना हमारी फितरत मे नहीं
रूठ जाना हमारी फितरत मे नहीं

रूठ जाना हमारी फित

नशा करने के बाद
नशा करने के बाद

जिन्दगी खराब हो जा

सिर्फ ऐसे हो तुम
सिर्फ ऐसे हो तुम

चाँद की चाँदनी जेस

अलफाज भी तुम्हारे
अलफाज भी तुम्हारे

जब तुम औरों से बोले

तेरे भीगे पल्कों पर
तेरे भीगे पल्कों पर

तेरे भीगे पल्कों प

काले मेघा पानी बरसाये
काले मेघा पानी बरसाये

काले मेघा पानी बरस

गर्मियों के मोसम
गर्मियों के मोसम

गर्मियों के मोसम क

वहाँ मेरा श्याम नजर आता हे
वहाँ मेरा श्याम नजर आता हे

जहाँ ना कोई उम्मीद

धान
धान

धान उगेंगे मेघ गरज

तुमसे ना मिलकर
तुमसे ना मिलकर

तुमसे ना मिलकर ये

तुलसी
तुलसी

रिश्तों के धागे मे

पतझड़ की शाम
पतझड़ की शाम

मन डूबा मेरा पतझड़ क

तुम होते तो कितना अच्छा होता
तुम होते तो कितना अच्छा होता

तुम होते तो कितना अ

प्यारे भैया भाभी
प्यारे भैया भाभी

प्यारे भैया भाभी आ

पतझड़ में गोरा बादल
पतझड़ में गोरा बादल

उड़ चले खग आसमानों म

उड़ान भरके तो देख मुसाफिर
उड़ान भरके तो देख मुसाफिर

उड़ान भरके तो देख

मुसाफिर तुम वादे हजार मत करना
मुसाफिर तुम वादे हजार मत करना

प्रण जो ले लिया इस

मुरझाते फूल
मुरझाते फूल

ये मुरझाते फूल कास

मन चाहता है
मन चाहता है

मन चाहता है | चाँद

देना माँ सरस्वती वरदान हमें/
देना माँ सरस्वती वरदान हमें/

देना माँ सरस्वती व

मत छूओ छाया को
मत छूओ छाया को

मत छूओ छाया को अब ब

कोशिश करता रहूँगा
कोशिश करता रहूँगा

कोशिश करता रहूँगा

कोन हे वो चिड़िया
कोन हे वो चिड़िया

कोन हे वो चिड़िया ज

इस कदर ना तुम रूठा करो
इस कदर ना तुम रूठा करो

इस कदर ना तुम रूठा क

निर्माण नीड़ों का
निर्माण नीड़ों का

कर निर्माण नीड़ो का

मुसीबतो से बढ़ना हे आगे
मुसीबतो से बढ़ना हे आगे

मुसीबतो से बढ़ना हे

प्रिय शाली जी आना नया गाँव जरूर
प्रिय शाली जी आना नया गाँव जरूर

प्रिय शाली जी आना

खाकी में
खाकी में

अपनी भावनाओं से कभ

कास मेरा जन्म एक पंछी जेसा होता
कास मेरा जन्म एक पंछी जेसा होता

कास मेरा जन्म एक प

नीले पंखों वाली
नीले पंखों वाली

सुबह आई शाम आई फूल

नशा
नशा

रिश्ते टूट जाते हे

अपनी समस्याओ का समाधान
अपनी समस्याओ का समाधान

जब तक अपनी समस्याओ

कास मुझे तुम सुन पाते
कास मुझे तुम सुन पाते

कास मुझे तुम सुन पा

सूना आँगन
सूना आँगन

अगर तुम आते तो ना लग

गर्मीयों का मोसम है
गर्मीयों का मोसम है

गर्मीयों का मोसम ह

चन्दा की ढिभरी
चन्दा की ढिभरी

रह गई बंद अंधेरो मे

पूस की बरसात
पूस की बरसात

चली आई मेरे आँगन मे

जिसे अपना समझ के
जिसे अपना समझ के

एक तूम ही तो वो जिस

हार मानने से मुसाफिर जीत नहीं मिलती
हार मानने से मुसाफिर जीत नहीं मिलती

हार मानने से मुसाफ

लाल दुपट्टे वाली
लाल दुपट्टे वाली

वो थोड़ा मुस्कुरा क

तेरी पायल की आवाज
तेरी पायल की आवाज

तेरी पायल की आवाज

काली आँखों ने
काली आँखों ने

हजारो की महफिल

अदा रूठ जाने की
अदा रूठ जाने की

मेरी सारी कोशिशें

प्रिय शाली जी
प्रिय शाली जी

प्रिय शाली जी द

नीड़
नीड़

नीड़ बनाऊँ में केसे

उन अँधेरों का उड़ना
उन अँधेरों का उड़ना

उन अँधेरों का उड़ना

तुम सदैव मुस्कुराते रहना
तुम सदैव मुस्कुराते रहना

हो अगर मुश्किलों क

परदेसिया
परदेसिया

दूर जाने वाले परदे

असली दोस्त वो
असली दोस्त वो

असली दोस्त वो नहीं

यूपीएससी किल्यर करना
यूपीएससी किल्यर करना

यूपीएससी किल्यर कर

स्वर गीत
स्वर गीत

यह स्वर गीत आज मेने

लोग इस कदर मिलते हे
लोग इस कदर मिलते हे

लोग इस कदर मिलते हे

बादल जी
बादल जी

क्यों छुपाते हो मु