नवीनतम रचनाएँ

कोशिश
Raj Ashok singh
कोशिश ,कर - ए दिल,,, कोशिशों से हारना नहीं । ओहो हु ,,,, किसी का प्यार मिले, तो किस्मत वरना । यहां जाना क्या है। वक्त रहते
44
Date:
01-02-2023
Time:
23:19
गजब
Raj Ashok singh
क्या ? जिस्म जुदाँ होगे । क्या ? रंग जुदाँ होगे । मुहोबत , मे तो हम ,संग- संग .... एक दुजें के संग जुदाँ होगे । हु हु ओहों,,,,,
13080
Date:
01-02-2023
Time:
23:20
जव्लत्
Raj Ashok singh
मुहोबत चाहिए,अ जिन्दगी मुझे , जीना है। वादो को तोड़ कर तन्हाई मे कमबक्त बह रही है। साँसे साँसो को छोड़ कर वाह, क्या
22
Date:
01-02-2023
Time:
23:17
उसने हमसे इस कदर मुँह मोड़ा जैसे हमारी ज़िंदगी ख़राब है सो है उसके बिछड़ने के बाद यारो उस पानी के गिलास में शराब है सो है
Ritvik Singh
उसने हमसे इस कदर मुँह मोड़ा जैसे हमारी ज़िंदगी ख़राब है सो है उसके बिछड़ने के बाद यारो उस पानी के गिलास में शराब ह
3
Date:
02-02-2023
Time:
00:01
मिडिया
Pinky Kumar
आज में कुछ चुनिंदा मिडिया कर्मियों पर बात करूगी मिडिया काम है निष्पक्ष होकर अपना कार्य करना बिना किसी डर और बिना क
1
Date:
01-02-2023
Time:
23:22
इस दुनिया मे वही महान
Kalindri pal
इस दुनिया मे वही महान, करे जो माँ बापू का मान! बडो का वो भी कहना माने, छोटो को भी दे सम्मान ! सांच कहे या झूठ कहे, उसका ज
3
Date:
01-02-2023
Time:
23:18
फूल तुम्हारा क्या होगा
विकास यादव
शीर्षक - फूल तुम्हारा क्या होगा जो फूल न हुआ उस माली का, वो फूल तुम्हारा क्या होगा? जो भूला दिये पीड़ा नौ निशा की,
1
Date:
01-02-2023
Time:
23:18
उड़ रही है हवा में तेरी यह मदमाती खुशबू....
मोती लाल साहु
उड़ रही है- हवा में तेरी यह मदमाती खुशबू, ले जाती उड़ाके यह दिल मेरा।। सूरज की सतरंगी किरण- में नहाई तुम्हारा यह मु
7
Date:
01-02-2023
Time:
22:35
दिव्य प्रकाश से भरा यह जीवन....
मोती लाल साहु
दिव्य प्रकाश से भरा यह जीवन! दिले साज जो अब बज उठे हैं, अपने ही तबीयत से यारों। सुर-तान की जुगत तो देखो, जल गई है अंदर
2
Date:
01-02-2023
Time:
08:53
तेरी साँसो से
Swami Ganganiya
तेरी सासों से गुजरू हवा बनके तेरे जहन से उतरू में नशा बनके तुझे जब भी किसी चीज की जरूरत हो मैं आऊ हमेशा तेरी जरूरत ब
80396
Date:
01-02-2023
Time:
23:01
मै श्वैत धवल शीतल जल हूं।
Jitendra Sharma
कविता- मैं श्वेत धवल शीतल जल हूं! रचना- जितेन्द्र शर्मा तिथी- 31/01/2023 मैं जल हूं! मैं श्वेत धवल हूं शीतल हूं। मैं जल हू
6
Date:
01-02-2023
Time:
22:30
बेवफा
Raj Ashok singh
वेवफा थे,होठ मगर बातों मे सच को छुपा के, यो , मुहोबत की ,फिर से कहानीयाँ सुनाने लगे । दर्द की ,फिर वही एक शाम हु़़़़़
14
Date:
01-02-2023
Time:
21:03