# दिल्ली होगा कब्जे में ...... - चिन्ता netam " मन "

# दिल्ली होगा कब्जे में ......     चिन्ता netam " मन "     कविताएँ     राजनितिक     2022-07-03 17:32:02         50933           

# दिल्ली होगा कब्जे में ......

# दिल्ली होगा कब्जे में.....

इधर-उधर सिर हिलाते
बड़ी अदा से हाथ मटकाते ,
करते दो टके की नेतागिरी 
देते हैं झूठे आश्वासन ........!
         
              ***
लायची दबाए मुंह बिचकाते ,
गप्पेँ भरे जुमलेबाजी
लंबे- लंबे फेंके ये ,
लिखा कोरा भाषण .........!

              ***
बेवकूफ बनाना 
फितरत इनकी ,
इन्होंने किया सिर्फ ,
देश का शोषण ...!

              ***
महंगाई ,अराजकता ,
चारों ओर फैलता 
हो रहा अब तो ,
सेना का राजनीतिकरण ...!

              ***
बहुत हो चुका इनकी गोटी ,
सेंके इन्होंने अपनी रोटी
बंद कर दो इनके दरवाजे ,
जिसने देखें अपने फायदे ....!

              ***
देश के युवाओं को ,
बंद करो गुमराह करना
एक ना एक दिन ,
आफत आ जायेगी वरना ...!
               
              ***
जोश से भरे नौजवानों,
मेरे देश के कर्णधारों
देश , काल , परिस्थिति को ,
अब तो तुम विचारों ...!

              ***
जिस दिन तुम युवा ,
पूरी शक्ति से
आ गए भर हुंकार 
अपने जज्बे में ...! 

              ***
नेता छोड़ेंगे राजधानी
रहेंगे सब सदमें में
तब सारा दिल्ली होगा ,
तुम्हारें कब्जे में .....!

चिन्ता नेताम " मन "
नगर पंचायत डोंगरगांव
राजनांदगांव ( छत्तीसगढ़ )

Related Articles

समर्पण भाव
Nisha Dhiman
आरंभ हो चुका है अंत का अनंत में जो व्याप्त है, शंखनाद उल्लास है जगी ये कैसी प्यास है, भाव विभोर हो चुकी हृदय में उठत
4552
Date:
03-07-2022
Time:
20:27
बदलते मानव
Ramu kumar
चिंता की चिता सजा करके! अंदर ही अंदर जलते हो!! औरों की खुशी में जहर मिलाकर ! सोने का कफन पहनते हो !! मुस्कान भरे च
52429
Date:
03-07-2022
Time:
21:53
नज्म
DR ASHWANI PANDEY
नज़्म तुझे कैसे अलग ख़ुद से करूँ मै, तुझे जब खींचता हुँ ख़ुद से बाहर, खिंचा आता हूँ मै भी साथ तेरे, अजब सा जिस्म मे
10849
Date:
03-07-2022
Time:
22:02
Please login your account to post comment here!